Khabar Express, Urdu Daily Newspaper


चुनाव आयोग ने आप के इन 20 विधायकों को घोषित किया है अयोग्य।


नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के 20 विधायकों को लाभ का पद धारण करने के कारण अयोग्य घोषित किए जाने की सिफारिश की है। आयोग के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजी गई अनुशंसा में आयोग ने कहा है कि 13 मार्च, 2015 को संसदीय सचिव बनाए गए आप के 20 विधायक 08 सितंबर, 2016 तक लाभ के पद पर रहे। इसलिए दिल्ली विधानसभा के विधायक के तौर पर ये अयोग्य घोषित होने योग्य हैं। वर्तमान मामले में 21 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की याचिका दी गई थी लेकिन एक विधायक ने कुछ महीने पहले ही विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था फिलहाल आयोग ने इस बारे में कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है। हालांकि तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव कार्यक्रम को घोषित करने के लिए गुरुवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में मुख्य चुनाव आयुक्त ए के जोती ने इस बारे में पूछे जाने पर कहा था कि यह मामला अभी आयोग में विचाराधीन है, इसलिए वह इस मुद्दे पर कोई बयान नहीं देंगे। उल्लेखनीय है कि 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में 67 सीटों के प्रचंड बहुमत से जीती आप के लिए आयोग की सिफारिश करारा झटका जरूर है, लेकिन राष्ट्रपति द्वारा 20 विधायकों की सदस्यता रद्द किए जाने के बावजूद दिल्ली की केजरीवाल सरकार को कोई खतरा नहीं होगा। आप विधायकों की सदस्यता रद्द होने के बाद भी पार्टी की विधानसभा में सदस्य संख्या 45 रहेगी, जो कि बहुमत के आंकड़े (36) से अधिक है। लाभ के पद मामले के घेरे में आए आप के 20 विधायकों में आदर्श शास्त्री (द्वारका), अल्का लांबा (चांदनी चौक), अनिल बाजपेयी (गांधी नगर), अवतार सिंह (कालका जी), कैलाश गहलोत (नजफगढ़), मदन लाल (कस्तूरबा नगर), मनोज कुमार (कोंडली), नरेश यादव (महरौली), नितिन त्यागी (लक्ष्मी नगर), प्रवीण कुमार (जंगपुरा), राजेश गुप्ता (वजीरपुर), राजेश ऋषि (जनकपुरी), संजीव झा (बुराड़ी), सरिता सिंह (रोहतास नगर), सोमदत्त (सदर बाजार), शरद कुमार (नरेला), शिव चरण गोयल (मोतीनगर), सुखबीर सिंह (मुंडका), विजेन्द्र गर्ग (राजेन्द्र नगर) और जरनैल सिंह (तिलक नगर) शामिल हैं।






  E-Paper | Ranchi Edition